In between birth and death

Struggling to achieve unwanted goals, and walking to reach undecided destination

दबी जुबांन !! Dabe Juwan November 21, 2006

Filed under: मेरी कविताए,Hindi — rammanohar @ 8:47 pm

Few lines

***********************

कल ही तो हम ने खुदखुसी की,
आज फिर से करना है,
पत्ता नहीं कबतक, हम अपना कत्त्ल करेंगे ।।
हे ऊपर बाले, रोज जिंदा करते क्यो हो ।।

जिंदा रहेंगे कैसे, जब हरेक दिन मरना पडं रहा है,
कोइ तो बतायें, जिन्दगी जिने की है या मरने की?

***********************

जिसने कभी दोस्त की एहमियत को नही पेहचाना,
आज ऊसे दोस्तो की सहारा की जरूरत है।।

लोकल कल बहुत सस्ती हो गयी है,
एक कल करके हाल चाल पुछ सकती हो।।

***********************

रोता हू तो अब आंसु नहीं आती
कितने निकले ये आंसु, कहीं कल की जरुरत तो नहीं?

***********************

बूंद बूंद जमा, अब बांध बनके बैठा है,
जमिन ऊतना अब ऊंचा नंही, पैर का अब पत्ता नंही
अब तो हम बस तैरते है, नाओ के सहारे ।।

***********************
दर्द दिलमे होती है ।
लेकिन दिमाग मेहसूस करता क्यो है?

***********************

Basant Panchami , February 06, 2006

Advertisements
 

2 Responses to “दबी जुबांन !! Dabe Juwan”

  1. बहुत अच्छा ब्लाग है आपका, लिखते रहिये। अपने ब्लाग को नारद(http://narad.akshargram.com/) पर भी लिस्ट करवा सकते हैं।

  2. Anupam jha Says:

    Happy new year….kaha rahte ho maalik….opppss


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s